অসম আদিত্য - দেশ-জাতিৰ অতন্দ্ৰ প্ৰহৰী
শেহতীয়া খবৰ
Mamata Banerjee: আগামী ১৫ নভেম্বর থেকে রাজ্যে খুলে দেওয়া হবে স্কুল-টি–২০ বিশ্বকাপৰ হাইভল্টেজ খেলত পাকিস্তানৰ হাতত ধৰাশায়ী হোৱা দেখা গ'ল ভাৰতীয় দলক-শিৱসাগৰৰ ঐতিহাসিক শিৱদৌলত ভিৰ কৰিছে নেতা-পালিনেতাই-ভাৰত আৰু পাকিস্তানৰ মাজত অনুষ্ঠিত হ'বলগীয়া টি-২০ বিশ্বকাপ ২০২১ দেওবাৰে (IND vs PAK T20 World Cup 2021) অনুষ্ঠিত হ'ব-ৰে'ল পথৰ বৈদ্যুতিকীকৰণ কৰি অসমক আত্মনিৰ্ভৰ কৰাৰ বাবে মােদী চৰকাৰে গ্ৰহণ কৰা পদক্ষেপে আজি বাস্তৱ ৰূপ লাভ কৰিছে-কেন্দ্ৰীয় কেবিনেটে কেন্দ্ৰীয় চৰকাৰৰ কৰ্মচাৰী আৰু পেঞ্চনাৰসকলৰ বাবে ৩ শতাংশ DA আৰু DR বৃদ্ধিত অনুমোদন জনাইছে-এবার শাহরুখ খানের (Shah Rukh Khan) বাড়িতে নারকোটিক্স কন্ট্রোল ব্যুরো (NCB)-ভাৰতে 'এক বিলিয়ন' টিকাকৰণৰ গুৰুত্বপূৰ্ণ মাইলৰ খুঁটি অৰ্জন কৰিছে-গুৱাহাটী মহানগৰীত ৪৮ ঘণ্টাৰ বাবে বন্ধ থাকিব পেট্ৰ'ল পাম্প-আজি লক্ষ্মীপূজা

पूरे विश्व में आज अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस (International Day of Democracy) मनाया जा रहा है

0

पूरे विश्व में आज अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस (International Day of Democracy) मनाया जा रहा है. इस मौके पर 81वां अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्मेलन का शुभारंभ करते हुए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Lok Sabha Speaker Om Birla) ने कहा कि सर्वोच्च जनतांत्रिक संस्था होने के नाते हम देश की अन्य संस्थाओं के लिए आदर्श हैं. उन्होंने सभी जनप्रतिनिधियों से अपने कार्यों में अनुशासन और शालीनता के उच्चतम प्रतिमानों को बनाए रखने का आह्वान किया. लोकसभा अध्यक्ष  की अध्यक्षता में यह सम्मेलन वर्चुअली आयोजित हो रहा है.

बिरला ने कहा कि विधानमंडलों की विशेषता सदस्यों की भूमिका और आचरण से जुड़ी होती है. जनप्रतिनिधि सदन के भीतर और बाहर अनुशासनशीलता के उच्चतम मानदंडों का पालन करें. उन्होंने कहा कि दुर्भाग्य से विधानमंडलों में जनप्रतिनिधियों के अशोभनीय व्यवहार की घटनाएं बढ़ रही हैं. बिरला ने कहा कि इस तरह की घटनाओं से विधानमंडलों और लोकतांत्रिक संस्थाओं की छवि धूमिल हुई हैं.

उन्होंने कहा कि पीठासीन अधिकारियों की जिम्मेदारी है कि सदस्यों के सामूहिक और व्यक्तिगत आचरण को लेकर मापदंड बनाएं. उन्होंने कहा कि जरूरत है कि पीठासीन अधिकारी सामूहिक रूप से इसकी कार्ययोजना पर कार्य करें. बिरला ने कहा कि इस बात पर ध्यान देना होगा कि लोकतांत्रिक संस्था संविधान की भावना के अनुरूप कार्य करें. बिरला ने कहा कि सम्मेलन के 100 वर्षों का इतिहास गौरवशाली रहा है. इन वर्षों में ही हमने आजादी भी पाई, लोकतांत्रिक मूल्यों पर आधारित संविधान को अपनाया और विचारों-अनुभवों से लोकतंत्र को सशक्त बनाया.

Leave A Reply

Your email address will not be published.